ब्लॉग में खोजें

Monday, 15 February 2010

मुंबई में मैच नहीं


अनुज शुक्ल
रोज नए-नए विवाद खड़ा करना ठाकरे परिवार की आदतों में शुमार हो चुकी है. राहुल गांधी और शाहरूख खान संबंधित मामले पर इन मराठी माणुसों की खिचाई पूरे देश में चर्चा का विषय है. विश्लेषकों ने तो यहां तक कह दिया कि ठाकरे परिवार का जलवा महाराष्ट्र में तेजी से घट रहा है, इसी खीझ बस आए दिन ठाकरे परिवार कुछ न कुछ नया करता रहता है. ताजा प्रकरण क्रिकेट को लेकर है. भारत में क्रिकेटीय राष्ट्रवाद के जरिए तमाम लोग अपनी राजनीतिक रोटियों को सेकना चाहते है. अर्शा पहले इसका इस्तेमाल शिवसेना कर चुकी है, जब उसने पाकिस्तान से मैच का विरोध करते हुए बेब्रोन की पिच को रातों-रात खोद दिया था. हाशिए पर जा रही पार्टी के लिए कोई मुद्दा बचा नही. राज ठाकरे ने मराठी-माणुस का मुद्दा पहले हथिया कर, हालिया विधान सभा चुनाव में शिव सेना को हार के गर्त में ढकेला. सबसे बड़ी बात जो उभर कर सामने आ रही है वह यह की ठाकरे परिवार के लिए मुख्य मुद्दा क्या है? लोग पशो-पेश में है कि कभी ये लोग मराठी मुद्दे को तूल देकर मरने मारने पर उतर आते है तो कभी इनके लिए हिंदुत्त्व मुद्दा बन जाता है. अबकी ठाकरे परिवार राष्ट्रवादी भावनाओं से ओत-प्रोत है.
आस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम का भारत दौरा संभावित है. आस्ट्रेलिया में पिछ्ले दिनों भारतीयों पर लगातार हमले हुए. बाल ठाकरे का मानना है कि भारत को आस्ट्रेलिया के साथ क्रिकेट नहीं खेलना चाहिए. वे कम से कम मुंबई में मैच नहीं होने देने का संकल्प कर चुके हैं. इस आशय से संबंधित एक सी.डी. कैसेट बाल ठाकरे के हवाले से जारी किया गया. सबसे बड़ी बात तो यह है कि अभी तक जो ठाकरे परिवार और उनका संगठन उत्तर भारतीयों के साथ मुंबई में करता आया है वही आस्ट्रेलियाईयों ने भी वहा भारतीय छात्रों के साथ किया. इसमे तो उन्हे आस्ट्रेलियाइयों को शाबासी देनी चाहिए. वहां मार खाने वाले और मरने वाले दोनों भारतीय(अधिकांशतया महाराष्ट्र के बाहर के छात्र) ही थे. किस कसौटी पर मुंबई में किया गया कृत्य जायज है? जबकी मेलबाँर्न में किए गए उसी कृत्य को नाजायज ठहरा रहे हैं. दरअसल मुद्दों के अभाव में और जनाधार का तेजी से गिरना ठाकरे परिवार की चिंता का विषय है. हाल-फ़िलहाल उनके बड़बोले-पन ने उनकी काफ़ी हुज्ज्त करवाई है. उनकी राजनैतिक साख को बट्टा लगा है अबकी इसे क्रिकेटीय राष्ट्रवाद के जरिए सुधारने का प्रयत्न कर रहे है. ठाकरे जी अबकी कुछ मिलने वाला नही है, अभी समय है राजनीतिक जमीन बनाने का . पर यह उल-जुलूल की हरकतों से नहीं बल्कि ठोस सामाजिक मुद्दों से ही संभव है.

No comments:

Post a Comment